Thursday, 1 June 2017

FIRST TIME ICE ROAD SACH PASS CROSSING बैरागढ़ से किल्लाड

FIRST TIME INDIA'S ICE ROAD SACH PASS CROSSED BY BIKER IN DEC

                                            रात को ताश खेलते और गपे मारते समय का पता ही नहीं चला, 10 बजे तक़रीबन हम कल की सोचते सोचते सोने अपने कमरे में चले गए, अब योगी भाई और मुझ को सपने में भी खाईया ही दिख रही थी ... कल क्या होगा यही चल रहा था पर हमारी तैयारी भी पूरी थी और ऐसे दमदार साथियो के साथ होने से हौसला वैसे भी बहुत बढ़ जाता है ऊपर से भगवान का दिया हुआ वरदान है आपने पास तो, मेरी नींद में कोई भी समस्या या चिन्ता व्यवधान नहीं डाल सकती आँख बंद करो और शटर डाउन 5 मिनट भी नहीं लगते सोने में, मजे से बढ़िया रजाई ओड के सो गया और सुबह जल्दी उठ भी गया। 
                   
                                           अब जल्दी उठने के कभी फायदे मिलते है तो कभी नुकसान भी, यहाँ फायदा मिला की सबसे पहले उठ के सबसे पहले फ्रेश हो गया, पर कोई और ना उठा तो वापस जाके लेट गया और इंतज़ार करने लगा कब दूसरे उठे और तैयारी करे चलने की, सबको पता था की जल्दी निकलेंगे तो ठण्ड से ही हालत ख़राब हो जाएगी, सब आराम से 6:30 तक उठे गये, फिर वो लोग तैयार हुए इतने में हमने भी सामान पैक कर लिया। तैयार होने के बाद हमने 2 लीटर जूस लिया और चामुण्डा होटल की और चल दिए। चामुण्डा यहाँ का इकलौता अच्छा होटल है रूम का 1200 से 2400 रुपए तक चार्ज लेता है और उसका रेस्टोरेन्ट भी ठीक है तो आज का नास्ता चामुण्डा होटल पे। जाते ही 8 आलू परांठे का आर्डर कर दिया क्युकी हमे पता था यहाँ से किल्लार तक खाने को हवा के अलावा कुछ नहीं मिलना है साथ में एक जूस की बोतल भी खोल ली और जम के नास्ता किया पराठे थे स्वाद, बस आलू पराठे में आलू कही मिले नहीं ....... चलो कोई ना मतलब पेट भरने से था वो भर गया और हमने वापसी की हमारे होम स्टे की तरफ, वहा से बैग लेके बाइक पे रखे और निकलने के लिए तैयार, समय सुबह 7:30 हम निकल गए अब बैरागढ़ से निकलते ही एक पुलिस बेरियर आता है जहा एक पुलिस वाला भाई LMG GUN लेके खड़ा है जिसपे एंट्री करनी होती है और यही से रास्ता बंद हो जाता है यहाँ हमने रात को ही आके एंट्री कर दी थी पर अभी कोई और भाई की ड्यूटी थी तो वो हमारे नाम रजिस्टर में देख के हैरान पर थोड़ी हिदायत के साथ जाने दिया उसने, और हिदायत भी एक ही जो सब दे रहे थे ध्यान से चलना धीरे धीरे और निचे उतारते समय ज्यादा ध्यान रखना, ठीक है भाई साहब कह के चल दिए। 

ये है अभी आगे सड़क और कालाबन

KALABAN CHAMBA TERRORIST ATTACK 
                                            बैरागढ़ से निकलते ही इस रोड की भयावतता से सामना हो जाता है  यहाँ से आगे सड़क बस पत्थरो की बनी हुयी है बाइक बड़ी मुश्किल से 20 किमी की स्पीड से चल रही है ऊपर से घना जंगल और उसका नाम कालाबन। बैरागढ़ में कुछ सालो पहले चौकी नहीं थी, ऐसी जगह ऐसी गन के साथ ड्यूटी करने की जरुरत क्यों पड़ी और आज तक रोड ना बनने के पीछे एक दुखद घटना है ये वाक्या 3 अगस्त 1998 की सुबह का है इस रोड का 2 जगह काम चल रहा था कालाबन और सतरुंडी और इसपे काम करने वाले यही के लोकल लोग थे जो काम करके घरो में सो रही थे तक़रीबन सुबह के 3 बजे डोडा से पाकिस्तान से ट्रेंड 10-15 आंतकवादियो ने यहाँ हमला कर दिया और सोते हुये हिन्दुओं को उनके घरो से बाहर निकला और लाइन में खड़ा कर दिया फिर सबको ऑटोमेटिक हथियारों से गोली मार दी उन्होंने दोनों जगह पे 35 हिन्दू मारे और इस हमले में 11 हिन्दू गंभीर घायल हो गए थे और उन 35 में से 11 हिन्दुओं को वो आपने साथ ले गए थे उनका सारा सामान लूट के उन्ही से उठवा के ले गए बाद में उन्हें मार दिया था सतरुंडी से जम्मू कश्मीर की बॉर्डर 30 किमी ही है इस एरिया को पांगी वेली बोलते है बताया जाता है इसी एरिया में उनकी लाशे मिली थी। वो समय भी आज की तरह कश्मीर के ख़राब हालत का था इस घटना से कुछ दिन पहले भी गुलाबगढ़ के पास 25 हिन्दुओं की हत्या कर दी गयी थी ये सारा काम लश्कर का था जिसके मुख्य आतकवादी बिल्लू गुज्जर को पंजाब पुलिस ने बाद में गिरफ्तार भी कर लिया था इस घटना के बाद पांगी वेली से हिमाचल के एंट्री पॉइंट पे और कालाबन से आगे परमानेंट पुलिस पोस्ट बना दी गयी अब पांगी वेली में बनी चौकी पे तो बहुत बड़ी सख्या में जवानो की ड्यूटी रहती है उस समय यहाँ सिर्फ 2 जवानो की ड्यूटी थी इस घटना का समाचार भी ड्यूटी पे तैनात घायल सिपाही ने 8 -10 किमी पैदल चलके फारेस्ट की एक पोस्ट पे दिया तब जा के इस घटना का पता सबको चला था तब तक आतकवादी कश्मीर एरिया में चले गए थे ये घटना जहा हुयी थी वहा एक बोर्ड़ लगा हुआ है जिसपे सारी घटना लिखी हुयी है




                          सुबह का समय जंगल का इलाका और ऊपर से इतनी भयंकर ठण्ड की साँस भी जम जाये, मेरे पास उस समय टेम्परेचर नापने वाली घडी नहीं थी पर शायद आज तक की सबसे ज्यादा ठण्ड यही लग रही थी 2  दस्ताने पहन रखे थे पर हाथ जम गए सिर्फ हल्का सा हिल पा रहे थे जिससे रेस देके बाइक धीरे धीरे आगे बढ़ा रहे थे थोड़ी देर में अंगुलियों में भयंकर दर्द होने लग गया दर्द सिर्फ मुझे नहीं साथ वालो को भी हो रहा था तो हमने थोड़ा रुके और बस चल दिए, ये परेशानी तो होनी ही है जब तक धुप न लग जाये और इस जंगल में धुप का कोई चांस नहीं है तो चलते रहो, थोड़ी दूर पे ही रास्ता बंद आगे एक जेसीबी मशीन लगी हुई थी रास्ते को चौड़ा करने में, शायद ये रोड जल्दी ही बनेगी ऐसी बाते मैंने सुनी थी उसी का काम चल रहा था, हम बाइक से उतर के इंजन पे हाथ गरम करने लग गये थोड़ा आराम मिला 20-25 मिनट में रास्ता खुल गया और हम चल दिए तक़रीबन 9 बजे थोड़ी सी धुप मिली तो रुक गए और फोटो खीची, फिर चल दिए अभी 90 मिनट में सिर्फ 15  किमी ही आये है तो सोचा अब स्पीड खीचते है लेकिन ये रोड ऐसी ही थोड़े आइस रोड है यहाँ से थोड़ा सा चलते ही पहले मोड़ पे बड़ा सा झरना आगया। इस मौसम में झरना तो चलता नहीं है बस आइस जमी रहती है अब ये आइस कम से कम 100-150 फ़ीट लम्बाई में थी और आज तक कभी मैंने या मेरे दूसरे किसी साथी ने आइस पे बाइक नहीं चलायी तो हम तो देख के हके बके रह गए, ये क्या है भाई ये तो छोटा सा झरना था और इसपे इतनी आइस तो आगे बड़े बड़े झरने है वहा क्या होने वाला है सब समझ आ रहा है पर कोई ना हमारी तैयारी थी इन झरनो को पार करने की, मैंने ये रोड जुलाई में देखा था तो आईडिया था की क्या होने वाला है इसलिए हथियार साथ लाये थे, निकला हथोड़ा और लग गए आइस तोड़ने, अबे ये क्या है इसपे तो बस निशान पड़ रहा है ये बहुत ताकत से टूटेगा, तो लग गया में हेलमेट पहन के आइस तोड़ने में जैसे तैसे करके पथरो और हतोडे से मार मार के छोटा सा रास्ता बनाया, यहाँ रोड की चौड़ाई 10-12 फ़ीट ही है और आइस का ढालान खाई की तरफ है क्युकी पानी उसी ढलान से जाता था और अब आइस भी उसी ढालान पे जमी हुयी है और निचे 1000 फ़ीट गहरी खाई अगर बाइक फिसली तो रुकना नामुमकिन है तो हमे बड़े ध्यान से बाइक निकलना होगा अब हम में से एक आदमी बाइक को चलायेगा, 2 दोनों तरफ से पकड़ेंगे और एक हथोड़ा लेके बाइक को सेफ रखेगा, सच में आज तक का सबसे खतरनाक अनुभव था ये बड़ी मुश्किल से पहली बाइक निकली फिर थोड़ा हौसला हुआ तो बाकि बाइक भी निकाल ली, ऐसे यहाँ 15 -20 झरने है सब पे ऐसे ही निकालनी पड़ेगी

कांच के जैसी है ये आइस रोड -




                                              धीरे धीरे आगे बढे 2 -3 झरने पार किये होंगे तभी एक बहुत बड़ा झरना आगया यही यहाँ का सबसे बड़ा झरना है काम से काम 200 मीटर लम्बा होगा, देख कर ही डर लग रहा था इस झरने को पार करने में हालत ख़राब हो गयी बड़ी मुश्किलों से बाइको को पार करवाया 2  जगह तो आइस ज्यादा टूट गयी तो बाइक पानी के अंदर बैठ गयी इतना ठंडा पानी हाथ लगाने की हिमत न हो उसमे पैर रख के बाइक को निकाला, हा एक बात जरूर थी रोड तो डरावनी थी पर झरना बड़ा सूंदर था हमने काफी देर रुक के फोटो लिए





                               यहाँ सनी भाई ने एक पर्चा और दिया, मैं जब झरने पे थोड़ा सा चढ़ के फोटो खींच रहा था तो भाई बोला मुझे इस जमे हुए झरने के ऊपर चढ़ना है तो हम ने मना किया मत लो ये पन्गा कही चोट लग जाएगी पर सनी भाई तो सनी भाई है नहीं माने, बोले लायो राकेश ये हतोड़ा दो मैं चढ़ के दिखता हु, मान गए भाई को भाई तो सटा सट ऊपर चढ़ने लगे 4-5 मिनट में ही कम से कम 10-15 फ़ीट ऊपर चढ़ गए अब वहा से ऊपर जाने का रास्ता न था तो भाई ने हथोड़ा वही टांगा और मुड़ के फोटो खींचने के लिए बोले तभी आइस ने अपना रूप दिखा दिया और भाई का पैर फिसल गया अब भाई 10 फ़ीट से फिसलते हुए निचे आ रहे थे और निचे बड़े बड़े पत्थर थे बड़ी मुश्किल से सर को बचाया लेकिन थाई पत्थर को लग गयी, और भाई को अच्छी खासी चोट लग, 1 फ़ीट की लम्बी रगड़ पड़ी शायद काफी दिन तक दुखी भी होगी, खेर भाई है तो शेर कहा इन चोटों को याद रखते है, पर हमे डर लगा कही कुछ हो जाता तो क्या मुँह दिखते, आगे से ध्यान रखेंगे और ऐसे पंगे किसी को भी नहीं लेने देंगे। अब मेरा हथोड़ा वही टंगा रह गया जिसको हमने पत्थरो से मार मार के निचे गिराया यहाँ भी सनी भाई का पत्थर ही निशाने पे लगा था।

                                     

सनी भाई झरने पे चढ़ते हुए
-


 
                                   बड़े झरने को पार करने के बाद हमे एक जगह फिर काफी चौड़ा और लम्बा आइस कट और झरना मिला, बहुत ही सूंदर ऐसा लग रहा था मानो गिरते हुए ही जम गया हो यहाँ भी कुछ देर फोटो ली यहाँ बाइक बहुत फिसल रही थी तो एक छोटा सा वीडियो भी बनाया जिसका लिंक यहाँ दे रहा हु, फिर हम वहा से निकल गए कुछ दूर बार एक और झरना मिला यहाँ पानी बह रहा था और पानी के गिरने से डायमंड जैसे आइसकट बन रहे थे यहाँ भी कुछ देर रुक गए बस ये हमारा लास्ट स्टॉप है यही सोच के फुल स्पीड से निकल गए

डायमंड वाला झरना -



                                 अब यहाँ स्पीड थोड़ी देर के लिए ही होती है आगे का रास्ता बहुत भयानक है बड़े बड़े पत्थर सड़क पे निकले रहते है औ खड़ी चढ़ाई है सच पास तक बाइक बड़ी मुश्किल से  15-20 की स्पीड से चल रही थी पर हा रुके नहीं चलते गए चलते गए एक पास से पहले रोड में 1-2 फ़ीट तक गहरे खढे है उसमे बाइक फस गयी और ३ लोगो के धका मरने से भी बड़ी मुश्किल से चढ़ रही थी कुछ दूर बाद स्नो के कट आने लग गये तो आइस की मुसीबत काम हुयी पर एक जगह 50 मीटर स्नो के कट को पार करने के बाद सनी भाई की बाइक फिसल गयी खेर गति काम होने के कारण उनको चोट तो नहीं लगी पर फिर हम और संभाल कर बाइक चलाने लगे धके मार मार के हम सच पास 1 बजे पहुँच गए 30 किमी 6.30 घंटे में शाबाश मेरे शेरों नाम रोशन कर दिया शायद इतनी धीरे बाइक चलाने का यही इकलौता अनुभव है तो बड़ी बात यहाँ तक पहुचं गए, अब जूस पिया मदिर में पूजा की फोटो लिए और निकल लिए।

साच पास पे कुछ पल चेन के-


ये है साच पास से आगे की ढालान- 




                                  साच पास की ऊंचाई 14500 फ़ीट है और दिसंबर का महीना है तो यहाँ इस समय ऐसी ठण्डी हवा चलती है जहा चमड़ी मिल जाये उसको दर्द से जला देती है 1000 सुईया चुभने जैसी ठंडी हवा, जल्दी ही यहाँ से निकलने में भलायी है भाई फटाफट बाइक पे बैठे और बाइक स्टार्ट करके चल दिए. अरे ये क्या है पहले मोड़ से मोड़ते ही यही आवाज निकली और मैं वही रुक गया, साथ वाले भाई पहुंचे तो देख के राम राम राम जय भोले और जोर जोर से हंसी निकल रही थी ये सबका कारण नीचे का नजारा था, एक दम तीखी ढलान ऊपर से पूरी रोड पे स्नो पड़ी हुयी थी तो आइस भी न दिखने वाली साथ में इस साइड अब सूरज भी ना आएगा बहुत ही सुन्दर पर डरावना नजारा था और सिर्फ हंसी छूट रही थी जय भोले बोलते हुए निकले, बाइक स्टार्ट हो न हो कुछ फर्क नहीं है इतनी तीखी ढलान है की बंद बाइक को 100  की स्पीड में भगा लो, पर मुँह बाये खाईया हमारा ही इंतज़ार कर रही थी तो बड़ी मुश्किल से 10  की स्पीड में बाइक को ब्रेक पे ही चला रहे थे, ब्रेक में से भी ट्रक के जैसी चु चु कि आवाज आरही थी, 15 -20 मिनट में ही हाथो में भयंकर दर्द चालू हो गया इस साइड बहुत ज्यादा ठंडा थी सच बोलू तो इतना ज्यादा दर्द था की मन में आये हाथो को काट दू पर बाइक का इंजन ही हमारा मददगार बना, बार बार हाथो को गरम किया और आगे बढ़ चले, ये सफर बहुत भयानक था बस इतना ही कहना चाहूंगा इससे ज्यादा शब्द नहीं है मेरे पास, जैसे तैसे करके ये तीखी ढलान पार की, यहाँ धीरेन्द्र भाई हम से आगे निकल गए उनकी बाइक की स्पीड हम से तेज़ थी पर कुछ दूर जाके वो एक आइस कट पे फिसल गए बस भगवान का आशीर्वाद रहा की चोट ना लगी, न बाइक फिसल के खायी में गिरी, हम जब तक पहुंचे वो खड़े हो गए थे यहाँ तीखी ढलान खत्म हो गयी थी पर ढलान तो थी , कुछ दूर बाद दूसरा आइस कट मिला बहुत ही फिसलने वाला और इसकी ढलान भी बहुत ज्यादा थी तो हम ने उतर कर मिल के बाइक निकाली पर बड़ी मुश्किलों से यहाँ से बाइक निकल पायी। 


सच पास से आगे की ढलान पे बाइक दौड़ती हुयी-



                      इसके बाद कुछ दूर तक लैंड स्लाइड का इलाका आगया यहाँ सड़क छोटे छोटे पत्थरो से बनी हुयी थी ओर वही पत्थर निचे खिसकते रहते है ये पत्थर सड़क पे बनाते समय निचे डालने वाले पत्थर थे जो हमारे यहाँ भी डाले जाते है इनको रोड़ी बोलते है इनपे बाइक के टायर को ब्लेंस बनाना मुश्किल होता है तो फिर हमारी स्पीड कम हो गयी, अब हमारे शरीर में थकावट आने लगी थी, ब्रेक और क्लच दबा दबा के हाथो में दर्द आगया था, ऊपर से आगे की अगुलिया ठण्ड से दर्द कर रही थी धीरे धीरे शाम भी हो रही थी और यहाँ आदमी तो छोड़ो कोई पक्षी का भी नामो निशान नहीं था तो अगर कुछ हो जाये तो मदद तो भूल ही जायो, सबसे बड़ी समस्या साच पास से आगे मैं भी पहली बार ही आया था तो कहा क्या मिलेगा कुछ आईडिया नहीं, बस चले जा रहे थे चले जा रहे थे, इसी बीच एक जगह स्नो का झरना आया यहाँ ऊपर से पानी गिरे और निचे आने तक वो स्नो बन जाये, सूंदर अविश्वनीय नज़ारे मिले कुछ दूर पे ही हमे आइस स्टिक का एक झरना मिला इसका वीडियो भी मैं यहाँ डाल रहा हु जरूर पसंद आएगा इसके बाद हम कही नहीं रुके बस चलते गए

                        

                                       अरे हां एक और बात याद आयी, सनी भाई और धीरेन्द्र को मैंने उनके लक्षणो को देख के पीछे चलने का बोल दिया था और मैं आगे चल रहा था यहाँ फिर एक गड़बड़ हो गयी मैं एक मोड़ से थोड़ा आगे निकल गया और वो पीछे रह गए, फिर तक़रीबन 5 मिनट चलने पे ध्यान दिया की वो पीछे नहीं आरहे है लो जी हो गया कांड, मैं वही रुक गया और उनका इंतज़ार करने लगा साथ में जोर जोर से आवाज भी देने लगा जिससे उनको कोई रिप्लाई आजाये और पता लग जाये पर नहीं, बड़ी मुश्किल से 5 मिनट इंतज़ार कर पाया फिर योगी को वही उतर के वापस चला उनको देखने, इस रोड पे दो लोगो को लेके बाइक बड़ी मुश्किल से ही वापस जा सकती है और इस चिंता के समय तेज़ स्पीड चाहिए थी तो अकेला ही चला, मन में हज़ार तरह की शंकाये, भगवान करे सब सही हो, दिन में आज धीरेन्द्र भाई की बाइक काफी परेशान कर रही थी कही उसमे कुछ समस्या ना हो गयी हो, यही चल रहा था दिमाक में, कुछ दूर चलने पे वो आते हुए दिखाई दिए तब जान में जान आयी। उन्होंने मुझे वापस आते देख लिया और समझ गए की आज तो डांट पड़ेगी, मिलते ही सबसे पहले पूछा क्या हुआ सब ठीक है ना, हा ठीक है बस फोटो खींचने के लिए रुक गए थे, ओह तेरी और यहाँ मैं चिंता से मरे जा रहा था फिर हम साथ में ही निकले सब किसी को रुकने की छूट नहीं थी किल्लाड़ जाके ही रुकेंगे, यहाँ से बाइक भी 30 की स्पीड में चलने लग गयी थी लेकिन धीरे धीरे रात होने लगी और कही किलाड़ का नामो निशान भी ना दिख रहा था यहाँ तक की किसी पहाड़ पे एक लाइट भी नहीं दिख रहे थी, कुछ देर में फुल अँधेरा हो गया। 


बाइक की रौशनी में पुल का फोटो-





                                         अब आगे कुछ दिखयी नहीं दे रहा था बस चले जा रहे थे, काफी देर बाद एक पुल आया और उसके बाद पक्की सड़क, तो लगा की अब शायद पहुँच जायेंगे, तक़रीबन 10 किमी बाद किल्लाड आगया, किल्लाड की लाईट देख के ही जान में जान आगयी थी, वैसे मैं रात को बाइक नहीं चलता हु पर ऐसी जगह जब आप फस जायो तो क्या कर सकते हो।  रात को बाहर रुकना यहाँ तो मौत ही होती है, खेर हम सही सलामत किल्लाड़ पहुँच गए, सबसे पहले एक होटल लिया शायद 300-400 रुपये का कमरा था नोटबंदी के हिसाब से ठीक था फिर मस्त खाना खाया और रूम में आगये फिर कंधो पे मूव लगा के ताश खेली और सो गए। वैसे आज तो खतरनाक वाली नींद आने वाली है काम भी तो ऐसा किया है 12 घण्टे में 70 किमी, कल हम इस दुनिया की सबसे मुश्किल रोड पे बाइक चलाएंगे तो उसकी जानकारी अगले भाग में -
 
पूरा यात्रा वर्तान्त पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे
India's Deadliest ice road killar kishatwar bike trip in december
1. sach pass ice road दिल्ली से बैरागढ़
2.
sach pass ice road बैरागढ़ से किल्लार - भयंकर


इस यात्रा एक छोटा सा वीडियो यहाँ देखे -
                              

                               


कुछ फोटो -
कम से कम 150 फ़ीट ऊंचाई होगी इस झरने की -




सच पास से पहले का भयानक रास्ता -




साच पास पे मस्ती के कुछ पल


आइस स्टिक वाला झरना- 


पांगी पहुँचने पे सबसे पहला बोर्ड यही दिखा -